कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

भारतीय नौसेना की पहली महिला पायलट शिवांगी, समंदर के ऊपर से रखेंगी दुश्मन पर नज़र

इसी साल फ्लाइट लेफ्टिनेंट भावना कांत भारतीय वायुसेना में फाइटर प्लेन उड़ाने वाली पहली महिला पायलट बनी थीं और अब शिवांगी ने नौसेना में ये कमाल कर दिखाया।

Tags:

इसी साल फ्लाइट लेफ्टिनेंट भावना कांत भारतीय वायुसेना में फाइटर प्लेन उड़ाने वाली पहली महिला पायलट बनी थीं और अब शिवांगी ने नौसेना में ये कमाल कर दिखाया।

2 दिसंबर 2019 को भारत की एक जांबाज़ महिला ने अपना नाम इतिहास के पन्नों पर अंकित कर दिया। सब लेफ्टिनेंट शिवांगी भारतीय नौसेना की पहली महिला पायलट बन गई हैं। इसी साल फ्लाइट लेफ्टिनेंट भावना कांत भारतीय वायुसेना में फाइटर प्लेन उड़ाने वाली पहली महिला पायलट बनी थीं और अब शिवांगी ने नौसेना में ये कमाल कर दिखाया।

कल उन्होंने कोच्चि नेवल बेस पर अपनी ऑपरेशनल ड्यूटी ज्वॉइन कर ली है और अब वो नेवी के लिए सर्विलांस एयरक्राफ्ट 228 को उड़ाएगी। इस एयरक्राफ्ट का काम होता है समुद्री क्षेत्र पर निगरानी करना। यानि शिवांगी के कंधों पर देश की सुरक्षा का भार होगा जिसे बेशक वो बखूबी निभाएंगी क्योंकि ये मुकाम हासिल करना उनका सपना था।

इस उपलब्धि के बाद सब लेफ्टिनेंट शिवांगी ने कहा, “ऐसा कभी सोचा तो नहीं है कि इतिहास के पन्नों में नाम आ जाएगा, लेकिन अब ऐसा हो रहा है तो बहुत खुशी महसूस हो रही है। ये एक ऐसी फीलिंग है जिसे मैं शब्दों में बता नहीं पाऊंगी।”

कैसे मिली पायलट बनने की प्रेरणा

शिवांगी बचपन से ही पायलट बनना चाहती थीं। वो बताती है “एक बार मैं नाना जी मुझे किसी मंत्री की रैली में ले गए थे जहां वो चौपर में आए थे। मैंने उस चॉपर में जब एक पायलट को देखा तो मुझे बहुत अच्छा लगा और तब पहली बार मैंने सोचा कि मुझे पायलट बनना है।”

शिवांगी ने कॉलेज में नेवी के एक प्रोग्राम में हिस्सा लिया था जहां उन्होंने पहली बार किसी ऑफिसर को सफेद रंग की नेवी की ड्रेस में देखा था। उस यूनिफॉर्म को देखकर शिवांगी इतनी आकर्षित हुई कि उन्होंने ठान लिया कि वो भी इसे हासिल करके रहेंगी।

बिहार के मुज़फ्फरपुर में जन्मी शिवांगी को उनके परिवार का पूरा साथ मिला। वो एक सिविलयन परिवार से आती हैं जहां आज तक कोई भी डिफेंस में नहीं था। लेकिन माता-पिता और दोस्तों ने उनकी इस करियर च्वाइस को बदलने को कोई भी प्रेशर नहीं डाला। परिवार का साथ मिलता है जो रास्ते और भी आसान हो ही जाते हैं।

सब लेफ्टिनेंट शिवांगी समंदर से देश के दुश्मन पर नज़र रखने के लिए अब पूरी तरह तैयार हैं।

Never miss real stories from India's women.

Register Now

मूल चित्र : Google

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

133 Posts | 447,881 Views
All Categories