कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

क्यों एक तरफा तराज़ू नहीं बतलाता सही भाव है!

Posted: December 11, 2019

जहां इंसाफ का तराज़ू हमेशा एक तरफ झुका रहता है, उस समाज में कोई तरक्की, कोई समानता, कोई बदलाव आना नामुमकिन हैं, ऐसा समाज इंसानियत का दुश्मन है! 

कैसा है यह एक तरफा तराज़ू  

झुके है देखकर के भारी बाजू 

यहां आँसू का है कोई मोल नहीं 

पैसे से बढ़कर कोई तोल नहीं 

यहां रुपैया मुंह खोलकर है बोल रहा 

और भरोसा सहमा सा है डोल रहा 

नज़रें टिकी हैं तराज़ू के कांटे पर 

कभी तो इंसाफ कर सही ओर झुके 

यहाँ धर्म के नाम पर लूट मार है 

बिकती इंसानियत भी तो कूड़े के भाव है 

कैसा यह जात-पात का भेदभाव है 

क्यों नहीं आता बदलाव है 

क्या परखना चाहता है तू 

किसे आज़माना चाहता है तू 

किसी की कमज़ोरी को बतला  

किसी की कमियों को ढूंढ

बन खुद ही सरकार 

लिए नोटों का भंडार 

नज़रों के तराज़ू में ना तोल  

यह जीवन का आधार 

सच्चाई देखकर अनदेखा ना कर 

इंसान है इंसान की परवाह कर 

कहीं ऐसा ना हो 

दूसरे को परखते परखते 

जाए स्वयं को भूल 

वक्त रहते संभल 

नहीं तो कल आने वाली पीढ़ी भी 

पूछेगी यही सवाल है 

क्यों नहीं बतलाता तराज़ू सही भाव है

क्यों नहीं बतलाता तराज़ू सही भाव है।

मूल चित्र : Canva 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Rashmi Jain is an explorer by heart who has started on a voyage to self-

और जाने

Online Safety For Women - इंटरनेट पर सुरक्षा का अधिकार (in Hindi)

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020