कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

जनाब ये ज़िंदगी है, ये आपको पूरा तो नहीं होने देगी!

Posted: November 14, 2019

जनाब ये ज़िन्दगी है आपको पूरा नहीं होने देगी! जी हाँ, शायद इसी में जीवन जीने की खूबसूरती भी है क्यूंकि जो पूरा हो गया वो आगे कैसे बढ़ेगा?

कह दूं तो बुरा मानेगी
सह लूँ तो दफ़न हो जाएगी
महफ़िल में जाऊँ तो फ़ज़ीहत करेगी
तनहाई में मुस्कुराऊँ तो किलसेगी
हाथ थामूं तो दामन छुड़ायेगी
अकेले रहूं तो बहुत सताएगी
नवाब बनूँ तो सादगी चाहेगी
साधारण रहूँ तो उपहास बनवाएगी
परिवार चाहूँ तो ज़रूरतें माँगेगी
ज़रूरतें पूरी करूँ तो परिवार छीनेगी
समझदारी चाहूँ तो बचपना देगी
बचपना चाहूँ तो मासूमियत चुरा लेगी
दिन माँगू तो रात देगी
रात माँगू तो नींद छीन लेगी
अपनों को माँगू तो आशिर्वाद नहीं देगी
आशीर्वाद माँगू तो अपनों को नहीं देगी
किसी के बदले किसी को छीन ही लेगी
जनाब ये ज़िन्दगी है आपको पूरा नहीं होने देगी!

मूल चित्र : Unsplash

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Online Safety For Women - इंटरनेट पर सुरक्षा का अधिकार (in Hindi)

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?