कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

कण कण में बसी क्षण क्षण में रची नारी तेरी ये कहानी!

Posted: November 11, 2019

बचपन बीता सकुचा सिमटा, यौवन आया नई आस लिए, आयी है पार झरोखों के, मन में स्वतंत्र उल्लास लिए नारी की विषम कहानी है।

कण कण में बसी क्षण क्षण में रची,
ये रंग बदलती रवानी है।
वो जिसको कह भी न पाई कभी,
नारी की विषम कहानी है।

बचपन बीता सकुचा सिमटा,
यौवन आया नई आस लिए।
आयी है पार झरोखों के,
मन में स्वतंत्र उल्लास लिए।

वैजन्ती तेजस्वी जननी,
जग की तुम हो दीपशिखा।
शोषण अत्याचार नहीं है,
अब तेरी जीवन रेखा।

स्वछंद धरा स्वछन्द किरण तुम,
सुरमयी अलौकिक जलधारा।
क्या बांध सका था काल कभी,
अवतरित हुई जब रौद्र दुर्गा।

उठ सुप्त कंठ में उपजाओ,
कीर्ति क्रांति के नव अंकुर।
जन जन के प्राणों में गूँजें
तेरी वीणा के मीठे सुर।

मूल चित्र : Canva 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

I am an avid reader and nature,music,art lover.

और जाने

Online Safety For Women - इंटरनेट पर सुरक्षा का अधिकार (in Hindi)

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?