चाहे जितना भी टोको चाहे जितना भी रोको, पर मैं परचम लहराऊंगी

Posted: October 1, 2019

क्यों आज भी हो टोकते, आगे बढ़ने से हो रोकते, धिक्कारते हो घर में तुम, फिर मूर्ति में पूजते, पहुँच गई शिखर पे मैं, फतेह करी अपनी ध्वजा, मैं नभ भी चीर जाऊँगी।

ना हारी हूँ ना हार पाऊँगी

ये मिथ्या मैं काट जाऊँगी।

ये पाँवों में जो बेड़ियाँ मैं उनको तोड़ जाऊँगी।

बनूँगी मैं वो धाविका जो आ सके पहुँच में ना,

है कांस्य क्या, रजत भी क्या, मैं स्वर्ण जीत लाऊँगी।

ये तोहमतें, नसीहतें हाँ रखना अपने पास तुम,

है धरती की बिसात क्या मैं चन्द्र जीत जाऊँगी।

ये रंग जो मेरा सांवला खटकता तुमको आँख में,

इसी के दम पे आज मैं, विश्व सुंदरी कहाऊँगी।

क्यों आज भी हो टोकते, आगे बढ़ने से हो रोकते,

धिक्कारते हो घर में तुम, फिर मूर्ति में पूजते।

पहुँच गई शिखर पे मैं, फतेह करी अपनी ध्वजा,

के थल नहीं, ये जल नहीं, मैं नभ भी चीर जाऊँगी।

ज़रूरतों का नाम दे जो रोका तुमने अब मुझे,

नहीं सुनूँगी जान लो के अब ना पिसने पाऊँगी।

के ले के अपनी उमंग संग मैं परचम लहराऊँगी,

बस परचम लहराऊँगी।।

मूल चित्र : Unsplash

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Salman Khan is all set to romance Alia Bhatt!

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

NOVEMBER's Best New Books by Women Authors!

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?