कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

इस नवरात्री दुर्गा का सिर्फ स्मरण काफी नहीं, ज़रुरत है उसके सशक्तिकरण की

Posted: October 2, 2019

कन्या विहीन धरा को तुम कैसे पुष्पित कर पाओगे? फिर कन्याओं का भोग तुम कैसे लगा पाओगे? जब तक असुरक्षित कन्या और नारी हैं, तब तक चंद्रघंटा पूजा अधूरी हमारी है!

करते हैं हम दुर्गा का स्मरण हर बार

करते शैलपुत्री का आह्वान हर बार

देवी रूपी कन्याओं का भोग लगाते हर बार

करते ब्रह्मचारिणी का जय जय कार हर बार

क्या देश के ज्वलंत प्रश्न को सोचा है एक बार?

कोख में कन्याएं कुचली जाती हैं

कूड़ेदान में बेटियां फेंकी जाती हैं

दैत्यों की अपावन नज़रों से वह घायल हो जाती हैं

कहीं तो बाल विवाह का दुःख वह झेल जाती हैं

घर-बाहर, देश-द्वार वह असुरक्षित खुद को पाती हैं

कन्या विहीन धरा को तुम कैसे पुष्पित कर पाओगे?

फिर कन्याओं का भोग तुम कैसे लगा पाओगे?

जब तक असुरक्षित कन्या और नारी हैं

तब तक चंद्रघंटा पूजा अधूरी हमारी है

हर कन्या कूष्मांडा

हर कन्या स्कंदमाता है

मत आने दो आंच अस्मिता पर उसके

फिर  कात्यायनी पूजा हमारी पूरी है

फिर कालरात्रि पूजा हमारी पूरी है

वृद्धाश्रम में माताओं को देख

मन द्रवित हो उठता है

घर की हर मां महागौरी है

घर की हर मां सिद्धिदात्री है

दे दो सम्मान घर आंगन में उसको

भोग लगा दो घर मंदिर में उसको

फिर दुर्गा पूजा हमारी पूरी है

फिर शक्ति पूजा हमारी पूरी है

मूल चित्र : Pixabay

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Online Safety For Women - इंटरनेट पर सुरक्षा का अधिकार (in Hindi)

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?