अब फूलों सी नाज़ुक नहीं हैं ये बेटियाँ

Posted: September 22, 2019

तीन तलाक का दर्द न सहेंगी अब ये बेटियाँ, दहेज रूपी दैत्य को भी मसल फेंकेंगी अब ये बेटियाँ, अब फूलों सी नाज़ुक नहीं हैं ये बेटियाँ। 

माना फूलों सी नाज़ुक होती हैं बेटियाँ

माता-पिता की दुलारी होती हैं बेटियाँ

दो कुलों का मान बढ़ाती हैं बेटियाँ

सबको गले लगाती हैं ये बेटियाँ

इक्कीसवीं सदी में जन्मी हैं ये बेटियाँ

बड़ी हो, सब कुछ कर दिखाएँगी अब ये बेटियाँ

चौंका-चूल्हे तक अब न सिमट,

अपना पथ खुद बनाएँगी अब ये बेटियाँ

अंतरिक्ष को भी अपने आँचल में समेट लेंगी अब ये बेटियाँ

तीन तलाक का दर्द न सहेंगी अब ये बेटियाँ

दहेज रूपी दैत्य को भी मसल फेंकेंगी  अब ये बेटियाँ

अन्याय पर न्याय की पताका फेहराएँगी अब ये बेटियाँ

पढ़ लिख कर कानून की मुख्य धारा में बह

दरिंदों को उनके अंजाम तक पहुँचाएँगी अब ये बेटियाँ

भेड़ का चोला ओढ़े, भेड़ियों में फर्क जान पाएँगी अब ये बेटियाँ

देवी बन पूजा का अधिकार न माँगेंगी अब ये बेटियाँ

बेटी के जन्म पर नाखुश होने वालो सुन लो,

नन्ही कली से फूल बन जब खिलेंगी ये बेटियाँ

तब वसुधा के आँगन को महकायेंगी ये बेटियाँ

असम्भव को भी सम्भव कर दिखाएँगी अब ये बेटियाँ

अब फूलों सी नाज़ुक नहीं हैं ये बेटियाँ।

मूल चित्र : Google/Canva 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Salman Khan is all set to romance Alia Bhatt!

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

NOVEMBER's Best New Books by Women Authors!

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?