कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

विद्या बालन बनेंगीं शकुंतला देवी और हमें इंतज़ार है उनकी इस फ़िल्म का

Posted: सितम्बर 24, 2019

विद्या बालन बनेंगीं शकुंतला देवी और उनका पहला लुक बहुत ही सराहनीय है, शकुंतला देवी की बेटी अनुपमा देवी को विद्या बालन ने उनकी माँ की याद दिला दी। 

समय बदल रहा है, लोगों की सोच बदल रही है, क्योंकि समाज का दर्पण कहे जाने वाले साहित्य का सबसे बड़ा
माध्यम, सिनेमा बदल रहा है! सिनेमा, जो कभी पुरुष-प्रधान हुआ करता था और उसमे औरतों की भूमिका महज़
मर्दों को रिझाना या पेड़ों के इर्द-गिर्द नाचना हुआ करती थी, आज काफी प्रगति कर चुका है। इसका जीता जागता उदाहरण है, अगले साल आने वाली फिल्म शकुंतला देवी – ह्यूमन कंप्यूटर, जिस पर काम शुरू हो चूका है।

इस फिल्म के निर्देशन, लेखन से लेकर मुख्य अदाकारी तक, लगभग सभी काम महिलाएं कर रही हैं, तो फ़िल्म  पूरी तरह से महिलाओं के काँधे ही है। फ़िल्म की मुख्य भूमिका में रहेंगी विद्या बालन जो पहले ही उन सभी मापदंडों को दरकिनार कर चुकी हैं जिन पर आज तक औरतों को परखा जाता रहा है, फिर वो चाहे बॉडी शेमिंग हो या फिल्म में महिलाओं की भूमिका।

चलिए, थोड़ी बात कर लेते हैं भारत की महान शख्सियत शकुंतला देवी जी के बारे में, जिनकी ज़िंदगी पर ये फिल्म आधारित होगी। शकुंतला देवी को संख्यात्मक परिगणना में गज़ब की फुर्ती और सरलता से हल करने की क्षमता होने के कारण मानव कंप्यूटर कहा जाता था। पर एक महान गणितज्ञ होने के साथ-साथ वो एक ज्योतिषी, सामाजिक कार्यकर्त्ता, लेखक और इस सबसे ऊपर एक ज़िंदादिल इंसान थीं।

उनके बारे में विद्या बालन का कहना है, “मैं बड़े परदे पर ह्यूमन कंप्यूटर शकुंता देवी का किरदार निभाने को लेकर बहुत उत्साहित हूँ। वह वाकई वो महिला थीं जिन्होंने अपनी आत्मीयता को नहीं छोड़ा, जिनकी एक मज़बूत नारीवादी आवाज़ थी और जीत के लिए वो बहुत बहादुरी से लड़ती थीं। हालाँकि, जिस चीज़ ने मुझे सबसे ज़्यादा प्रभावित किया, वो ये की आप आमतौर पर किसी मज़ेदार आदमी को गणित के साथ जोड़कर नहीं देखते हो।”

विद्या बालन का शकुंतला देवी के रूप में पहला लुक बहुत ही सराहनीय है, जिसके बारे में शकुंतला देवी की बेटी अनुपमा देवी ने तो यहाँ तक कह दिया कि विद्या बालन ने उन्हें उनकी माँ की याद दिला दी।

तो विद्या बालन बनेंगीं शकुंतला देवी और हमें उम्मीद है कि महिलाओं की ये टीम भारतीय सिनेमा जगत के इतिहास में एक नये युग का आगाज़ होगी।

मूल चित्र : YouTube 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

While literature is her first love, writing is a need for Rashmi to keep going.

और जाने

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020