कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

अब सिर्फ नारी! क्यों कहूँ मैं ख़ुद को अबला

Posted: September 20, 2019

तुम क्या जानोगे हमको, जितना हमने ख़ुद को जाना है, सूरत से दिखते हैं जो, बस उतना ही पहचाना है? अब सिर्फ नारी! क्यों कहूँ मैं ख़ुद को अबला

अब नारी, नहीं मैं अबला हूँ
लक्ष्मी दुर्गा सबला हूँ
सिर्फ नारी, नहीं मैं अबला हूँ
सीमाओं को लाँघ कर
मर्यादा को थामकर
दिखा रही पग उजला हूँ
बस नारी, नहीं मैं अबला हूँ

तुम क्या जानोगे हमको
जितना हमने ख़ुद को जाना है
सूरत से दिखते हैं जो
बस उतना ही पहचाना है
दूर करेंगे वहम तुम्हारे
कर रहे पूरा हर सपना हैं
हाँ अब नारी, नहीं हम अबला हैं

अपमानों का दाग़ मिटाकर
स्वाभिमान का भाव जगा कर
दिखा रहे पग उजला हैं
क्योंकि नारी, नहीं हम अबला है

मूल चित्र : Pexels 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Dreamer , creative , luv colours of life , Teacher , love adventure, singer , Dancer , P☺️

और जाने

Online Safety For Women - इंटरनेट पर सुरक्षा का अधिकार (in Hindi)

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?