हाँ! वो भी देशभक्ति कहलाई थी

Posted: August 8, 2019

ज़रूरी नहीं हथियारों से ही लड़ा जाए, अपने घर से देश के लिए लड़ती आयी थी, हां! यही देशभक्ति कहलाई थी। हां! वो भी देशभक्ति कहलाई थी। 

‘लो फिर बेटी हुई है’ से उस मासूम ने अपनी आंखें खोली थीं
उम्मीदों के बांध को उसने अपने जन्म से ही तोड़ दिया
लड़ती रही अपने अस्तित्व के लिए हर कदम
लेकिन हारने से उसको कुछ सख्ती थी
उसी मनहूस ने वो तलवार पूत पर चलाई थी
हां! वो भी देशभक्ति कहलाई थी।

यूँ कपड़ो की तना-तनी में, संवरना कहीं चूक गया
चूड़ियों का दामन पकड़ा और वो कलम कहीं छूट गया
लेकिन कहाँ वो लहर है जो हौसला तोड़ पायी थी
उसी डरपोक ने ऊंचे पर्वत पर ध्वजा लहराई थी
हां! वो भी देशभक्ति कहलाई थी।

बेलन उसकी कमजोरी नहीं, निशाना भी अचूक उसका
लगा गोते पानी में, काटा है सीना उसका
उसकी स्याही करती न्याय कितनों का
पत्थर का बन वो माँ फ़र्ज़ निभाती आई है
हाँ! वो भी देशभक्ति कहलाई है।

कहीं लाल बिंदी और साड़ी में चंद्रयान चला दिया
कहीं लगा छलांग भारत का गर्व फिर से बढ़ा दिया
कहीं चल पड़ी उड़ने कोई ‘स्वर्ण परी’
कहीं अर्थव्यवस्था का नक्शा घुमा दिया
ज़रूरी नहीं हथियारों से ही लड़ा जाए
अपने घर से देश के लिए लड़ती आयी थी
हां! यही देशभक्ति कहलाई थी।

मूलचित्र : Google/Pexel

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Now a days ..Vihaan's Mum...Wanderer at heart,extremely unstable in thoughts,readholic; which

और जाने

Salman Khan is all set to romance Alia Bhatt!

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

NOVEMBER's Best New Books by Women Authors!

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?