कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

फिर लौट आओ

Posted: August 12, 2019

कभी आओ बैठो इन सरगोशियों में, बातें ढेर सारी करनी हैं तुमसे, छोड़ आओ अपना ये फ़हम कहीं दूर, कि अब कुछ पल तुम्हारा साथ ये दिल पाना चाहता है। 

कभी-कभी तुम्हारी ये समझदारी

मुझे अन्दर तक कचोट जाती है

तुम्हारा मुझे खुद से समझदार साबित कर जाना

मुझे भीतर कहीं छलनी कर जाता है।

 

जो तुम यूँ ही मेरी किसी परेशानी को

अपनी टेढ़ी मुस्कान में उछाल

उसे वापस मेरी ही तरफ फेंक देते हो

“कभी संभालो मुझे”, मन यूँ कुछ चीख जाता है।

 

नादानियों के किस्से मैं कब के पीछे छोड़ आई हूँ

लेकिन वो बनावटी लड़कपन तुम्हारा ध्यान खींचने चला आता है

आता है मुझे मेरी शिकायतें सुनना

पर कभी तुम मुझे गलत साबित करो यूँ ख्याल मन में आ जाता है।

 

हर लम्हा रफ़ीक की तलाश में ये दिल

एक बारीक नपा-तुला हमनवा पा जाता है

और फिर ये अल्हड़ नादाँ मस्ताना

रवाना वहीं अपने पुराने ठिकाने पर हो जाता है।

 

कभी आओ बैठो इन सरगोशियों में

बातें ढेर सारी करनी हैं तुमसे

छोड़ आओ अपना ये फ़हम कहीं दूर

कि अब कुछ पल तुम्हारा साथ ये दिल पाना चाहता है।

 

कुछ देर के लिए ही सही

बंदिशों से खुद को आज़ाद करके तो देखो

देखो कैसे कागज़ की इन कश्तियों में भी

ज़िंदगी का बेहतरीन सफ़र काटा जाता है।

मूलचित्र : Pixabay 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Now a days ..Vihaan's Mum...Wanderer at heart,extremely unstable in thoughts,readholic; which

और जाने

Online Safety For Women - इंटरनेट पर सुरक्षा का अधिकार (in Hindi)

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?