कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

दोस्ती – एक अनोखा रिश्ता

Posted: July 30, 2019

हमने भी दोस्तों को सदियों से इस दिल में महफूज़ रखा है, दूरियों को मीलों से नहीं गहराईयों से नाप रखा है। 

दोस्तों के साथ कब बीता वो सुनहरा बचपन

कुछ पता ही ना चला 

कब दिन निकला कब सांझ ढली

कुछ पता ही ना चला

हम तो बातों के सैलाब में डूबे रहा करते थे

बिन बोले एहसासों की चिट्ठी पढ़ लिया करते थे

दिल खोल हँस लिया करते थे

ग़म में भी

सीने से लग रो पड़ा करते थे

बीता वह बचपन का मौसम

पर कुछ दोस्त पुराने आज भी बहुत याद आते हैं

कभी यादों में तो कभी बातों में

लौट आते हैं फिर मेरे जज़्बातों में

दिल की सुनी गलियों को गुलशन सा महकाते हैं

कुछ दोस्त पुराने आज भी बहुत याद आते हैं

एक वक्त था

दोस्तों के संग खेला करते थे घंटों आँख मिचोली

अब वक्त ने खेल ऐसा खेला है

बीता एक अरसा

कुछ इस कदर छुप से गए हैं

नैना तरस से गए हैं

पर नज़र ना आते वो दोस्त

जो पल भर के लिए भी ना होते थे आँखों से ओझल 

बरसों से ना रूबरू हुए वो दोस्त

पर दोस्तों दोस्ती वो गुज़रा हुआ ज़माना नहीं

जो फिर लौट ना आए

दोस्त तो है साया तेरा

धूप हो या अँधेरा 

छोड़े ना साथ तेरा

हमने भी दोस्तों को सदियों से इस दिल में महफूज़ रखा है

दूरियों को मीलों से नहीं गहराईयों से नाप रखा है

यकीन ना हो तो

अब भी तू लगा कर देख एक पुकार

दौड़ा चला आए ये यार तेरा

दौड़ा चला आए ये यार तेरा

इस भाग-दौड़ में

ज़िंदगी के हर मोड़ पे

दोस्ती है निभाती एक अनमोल क़िरदार

हर किसी को नहीं मिलता यारों दोस्ती का खज़ाना यहाँ

हर किसी को नहीं मिलता यारों दोस्ती का खज़ाना यहाँ

किस्मत वाले होते हैं वह लोग जिनके नसीब में होते हैं कुछ सच्चे दोस्त

किस्मत वाले होते हैं वह लोग जिनके नसीब में होते हैं कुछ सच्चे दोस्त

आज बरसों बाद मिले

आँखें थी नम

दोस्त ने गले से लगाया

तो मानो लौट आया वो बचपन

रूठना मनाना

मानकर वो फिर रूठ जाना

याद आया दोस्ती का गुज़रा वो ज़माना

अजीब दास्तां है ये दोस्ती की दोस्तों

अनोखा सा ये रिश्ता है ये यारों

आज बरसों बाद मिले तो भी

ना थी कच्ची पड़ी ये डोरी

मानो सांसों के तार से बँधी थी ये डोरी

मानो सांसों के तार से बँधी थी ये डोरी

तराज़ू में तोला ना जा सके ये वो रिश्ता है

आँखें मूँद हाथ पकड़ संग चल सके ये वो रिश्ता है

आज भी याद है मुझे वो पल

जब बिछड़ने की ऋतू आई

इन भीगी पलकों को बरसने तक ना दिया

कमबख्त यारों ने खुलकर रोने भी ना दिया

दिल को बहुत समझाया यारों

मन को भी बहुत बहलाया

पर दोस्ती ऐसी नज़्म है दोस्तों

जिसे इन साँसों ने बार-बार दोहराया

अब तो बस एक ही आरज़ू है

दोस्तों की महफ़िल में दोस्ती यूं ही जवाँ रहे

मैं रहूँ ना रहूँ पर ये याराना सदाबहार रहे

मैं रहूँ ना रहूँ पर ये याराना सदाबहार रहे

मूलचित्र : Pixabay 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Rashmi Jain is an explorer by heart who has started on a voyage to self-

और जाने

Online Safety For Women - इंटरनेट पर सुरक्षा का अधिकार (in Hindi)

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020