कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

एहसास! आँख मूँद कर, सब ख़्वाब यूँ ही कैसे बह जाने दें

Posted: July 12, 2019

पूछ रही है मंज़िल, देख रही अब भी राही का रस्ता, कितना कुछ टूट गया, फिर भी नींव नई गढ़ते हैं, बर्बादी के बाद भी सारे बुनियादी ढांचे कहाँ ढहेंगे।

ये दुनिया वाले तो न जाने क्या-क्या नहीं कहेंगे,
जो ख़ुद में भी न जी पाए तो हम जाने कहाँ रहेंगे।

आँख मूँद कर, सब ख़्वाब यूँ ही कैसे बह जाने दें,
ज़िंदा हैं जो अब भी, सपनों की टूटन कहाँ सहेंगे।

रूठ गया है माँझी, कब नाव निकल गई हाथों से,
औरों से तो कह न पाए, ख़ुद से भी कहाँ कहेंगे।

अपने दिल की राह चुनो और बस चलते जाओ,
जो कुछ चट्टानें न टूटी, गम के दरिया कहाँ बहेंगे।

पूछ रही है मंज़िल, देख रही अब भी राही का रस्ता,
आँखों में मायूसी के ये मंज़र ख़ामोश कहाँ रहेंगे।

कितना कुछ टूट गया, फिर भी नींव नई गढ़ते हैं,
बर्बादी के बाद भी सारे बुनियादी ढांचे कहाँ ढहेंगे।

लौट उसी दर आना है चले जहाँ से थे मंज़िल को,
ये छोर आख़िरी है अपना, अब आगे कहाँ बढ़ेंगे।

चलो अब जंग यहीं खत्म कर देते हैं दुनिया से,
पूछ लिया ग़र, तो झूठ खुशफ़हमी से कहाँ कहेंगे,

आँखों का पानी झुठलाता है दिल की मज़बूती को,
‘बाग़ी’ होकर ख़ुद ही ख़ुद से हम जाने कहाँ रहेंगे।

मूलचित्र : Pexels 

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

MPhil Scholar( B.B.A.U ) in Dept. Of Mass Communication And Journalism.

और जाने

महिलाओं का मानसिक स्वास्थ्य - महत्त्वपूर्ण जानकारी आपके लिए

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020