कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

खोने नहीं देंगे खुद को, वादा है मेरा और आपका

Posted: April 26, 2019

जैसे मेरे दिल को अंदर तक कुछ भेद दिया था। बहुत चुभन हुई, और सबके जाने के बाद आज आईने से बातें करने बैठ गई और खुद को निहारने लगी।

आज अपने आपको आईने में देखा खूब निहारा, कुछ पल देखती रह गई मैं अपने आपको। उस चेहरे को जिसे मैं बड़े शौक से संवारा करती थी। उन हाथों को जिस पर मैं मेहँदी बड़े शौक से लगाया करती थी, उन हाथों को भी बड़े गौर से देखा।

उन काले लम्बे बालों की चोटी को आगे अपने कंधों पर लाकर मैंने बड़े इठलाते हुये आईने में निहारा। कितनी लम्बी चोटी थी, हमेशा कहीं जाना होता था माँ सबसे पहले उसे ही तैयार होने को बोलती थीं-“जा अपने बाल बना, आधे घंटे तो तेरे बाल में जाते हैं।” कभी पीछे कमर तक लटकती चोटी तो, कभी खुला छोड़ दिया करती थी। कभी गालों पर कभी माथे पर ये खेला करते थे। आज इन लटों को फिर से मैंने आईने में देखा।

पर ये क्या, कब से आईना निहार रही हूँ पर इन सब में मुझे कुछ भी नहीं दिखा पर क्यों? बालों, गालों, अपने चेहरे को गौर से आईने में निहारा। कई बार, उन सब को ढूंंढ़ा, पर नहीं, मुझे तो कुछ भी नहीं दिखा। कहाँँ गए वो सब?

उनकी जगह ये क्या है? चेहरे पर मलीनता, बालों में झांंकती सफेदी और ये रूखे से हाथ। ये क्या हालत हो गई है मेरी?  क्या मैं ही हूँ? आईना तो सच ही बोलता है भला ये मुझसे झूठ क्यों बोलने लगा।

बार-बार अपने आपको गौर से देखा सचमुच मैं कितना बदल गई हूँ। आईने ने जैसे मेरे कानों में धीरे से कहा, “गौर से देख तू ही है, पर तूने अपने आपको खो दिया है।  अपनों के बीच खुद को देख, तू, तू न रही।”

आईने में अपने आपको फिर से देखा सचमुच वो सब जो मेरे साथ थे सब खो गए धीरे-धीरे। मैं क्या से क्या बन गई। मैंने अपने आपको खो दिया था।

घर परिवार में, सब की ज़रूरतों में, मैंने अपनी जरूरत को भी नहीं देखा। अपने आप को भूलाकर, मैं, मैं ही न रही अब। सब का ध्यान और ख्याल रखने में मेरी चूक  मुझ पर ही हो गई। चेहरे की आभा ही खो गई। अभी तो मेरे साथ की सब औरतें कितनी जवान नजर आती हैं, कितने अच्छे से बन संवर कर रहती हैं। पर, मैंने तो जैसे अपने आप को, कामों से बाहर निकल कर, देखा ही नहीं।

वो सब भी तो काम करती हैं, फिर? फिर, मैंने अपने आप पर क्यों नहीं ध्यान दिया? राजीव कितनी बार तो मुझसे कह चुके थे, “कभी आईने में खुद को देखो, थोड़ा ख्याल करो”, पर मैंने तो अनसुना ही कर दिया था।

आज मैंने खुद को ही खो दिया। आज अगर बच्चों ने न कहा होता तो शायद अब भी मैं आईने की धीमी आवाज नहीं सुनती या यूं कहो अनसुना कर देती।

“मम%8

Kuch nahi hoker bhi bahut kuch hu

और जाने

Online Safety For Women - इंटरनेट पर सुरक्षा का अधिकार (in Hindi)

Comments are closed.

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?