कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

चुप थी तब, चुप हूँ आज-पर, लड़की हूँ बोझ नहीं

Posted: March 9, 2019

मैं चुप थी तब, मैं चुप हूँ आज-काश न होती, और बोल पड़ती, मेरे हक़ की बात-“लड़की हूँ, बोझ नहीं, इंसान हूँ, कठपुतली नहीं।”  

मैं चुप थी,
जब मेरे दुनिया में आने से लोग नाराज़ हुए;
मैं चुप थी,
जब मेरे पढ़ने पर सवाल उठे।
मैं चुप थी,
जब मेरे कपड़ों से मेरे किरदार पे उंगली उठाई;
मैं चुप थी,
जब मेरे सपनों पर ताले लगे।
मैं चुप थी,
जब मेरे हँसने  पे रोक लगाई।
मैं चुप थी,
जब बोलने पर मैं बदतमीज़ कहलाई।

मैं चुप थी,
जब मेरे अरमानों का गाला घोंट दिया।
मैं चुप थी,
जब मेरे रंग को मुद्दा कहा गया।
मैं चुप थी,
जब मेरी उम्र निकल जाने के बहाने से किसी पराये को सौंप दिया;
मैं चुप थी,
जब उसने पहली बार हाथ उठाया;
मैं चुप थी,
जब मेरे ही घरवालों ने सह लेने को कहा;
मैं चुप थी,
जब मुझे लोगों ने ठुकराया;
मैं चुप थी,
जब मुझे ‘डिवोर्सी’ होने पर बदचलन बुलाया।

मैं चुप थी तब, मैं चुप हूँ आज
लेकिन, काश न होती,
और बोल पड़ती, मेरे हक़ की बात-
कि लड़की हूँ, बोझ नहीं,
इंसान हूँ, कठपुतली नहीं।
मेरी ज़िन्दगी,
मेरी अमानत, सबकी नहीं;
हर बार गलती सिर्फ लड़की की नहीं,
लड़की हूँ बोझ नहीं।

मूलचित्र : Pixabay 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

महिलाओं का मानसिक स्वास्थ्य - महत्त्वपूर्ण जानकारी आपके लिए

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020