क्यों मुस्कुरा रहे हो ऐ दोस्त? मैं, रुकने वाली नहीं

Posted: March 13, 2019

“आज एक अरमान दफ़न हुआ है, कल और ख़्वाब शहीद होंगे,” पर मैं, रुकने वाली नहीं तब तक, जब तकअपने ख़्वाब को हक़ीक़त ना बना लूँ।

क्यों मुस्कुरा रहे हो ऐ दोस्त,
मेरी नाकामी पर,
मेरे ख़्वाब आज भी किसी के मोहताज नहीं,
परवाज़ लेने के लिए।

आज एक अरमान दफ़न हुआ है,
कल और ख़्वाब शहीद होंगे,
मेरी आरज़ूओं की कब्र पर,
कई लोग सवार होंगे।

पर एक दिन वह भी आएगा,
जब मेरा धुँधला ख़्वाब, हक़ीक़त की रौशनी पायेगा,
रंगीन सियाही से चमकेगा हर तिनका उसका,
तुम्हारी इसी हँसी का अक्स, तुम्हें नज़र आएगा।

Gaslighting in a relationship: गैसलाइटिंग क्या है?

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?