नारी ऊर्जा-तेरे में है हौंसला, चल उठ, अपनी पहचान बना

Posted: February 20, 2019

नारी तू उठ-चल उठ, अपनी पहचान बना, डर मत, कुछ कर, तू पढ़, आगे बढ़, मत पीछे हट, तू बोलेगी, मुँह खोलेगी, तभी ज़माना बदलेगी।

नारी तू उठ, डर मत, कुछ कर,
तू पढ़, आगे बढ़, मत पीछे हट।

तू बोलेगी, मुँह खोलेगी,
तभी ज़माना बदलेगी।

लज्जा है तेरा गहना,
पढ़ाई को अब अस्त्र बना।

तू ही अबला, तू ही सबला,
अब तू बन कल्पना चावला।

तू ही दुर्गा, तू ही लक्ष्मी, तू ही सीता,
दुष्टों के संहार का है, तेरे में हौंसला।

तोड़ कर ज़ंजीरों की बेड़ी,
तू बन किरन बेदी।

तू देश की आन-बान-शान है,
तू ही ऊषा, इंदिरा और प्रतिभा है।

मत हार हौसला, मत घबरा,
तू बन मदर टरेसा।

तू ही सावित्री, आशा, नीता, लता,
सब कुछ है तुझको पता।

तू ही सानिया, मैरी, नेहा, दीपिका,
चल उठ, अपनी पहचान बना।

देश का नाम रोशन कर,
तू ही ऐश, लारा, सुष्मिता।

नारी तू उठ, डर मत, कुछ कर,
तू पढ़, आगे बढ़, मत पीछे हट।

 

Salman Khan is all set to romance Alia Bhatt!

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

NOVEMBER's Best New Books by Women Authors!

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?