कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

नई कविता

Posted: फ़रवरी 12, 2019

एक नयी कविता जो अभी मन के झरोखे से निकली है। क्या शांति में ही सदैव समझदारी है – दो लघु कविताएं। 

एक नई कविता

आखर अभी गर्म है।
शब्दों से उठ रही है
सोच का सहमा सा धुआँ।
रात की बाँसी पंक्तियों को
रसोई में पका कर
उसने परोसा है तुम्हे
नाश्ते में, सबह सबेेरे।
के, चखलो आज
एक नई कविता।।

 

समझदारी

शांति में समझदारी है-
जिसे रटते हुुुए रोज़
एक दिन मैं,
भूल गयी लड़ने की
उन वजहों  को,
जिन्हें कभी मैं
अधिकार कहा करती थी।

मूल चित्र : pexels 

Dreamer...Learner...Doer...

और जाने

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020