कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

खामोशियाँ

Posted: फ़रवरी 13, 2019

“कुछ देर के लिए खामोशियाँ ही बेहतर है, बोलने पर अब सुनता ही कौन है?” क्या खामोश रहने में वाकई समझदारी है ? 

कुछ देर के लिए खामोशियाँ ही बेहतर है
बोलने पर अब भला सुनता ही कौन है?
मगन है वो बसेरों में अपने
तकलीफों को अब देखता कौन है?

झूठ बोल रहे हैं  चिख-चिख कर
पर तेरे झूठ को सच अब समझता ही कौन है?
झूठ कितना भी चीख चीख कर बोले पर
सच को आज तक दबा पाया ही कौन है?

कुछ देर के लिए खामोशियाँ ही बेहतर है
बोलने पर अब सुनता ही कौन है?
तकदीर में जो लिखा है वो मिलकर ही रहेगा
हाथों की लकीरों को भला मिटा पाया ही कौन है?
कुछ देर के लिए खामोशियाँ ही बेहतर है
बोलने पर अब भला सुनता ही कौन है?

मूल चित्र : pexel 

Kuch nahi hoker bhi bahut kuch hu

और जाने

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020