कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

माँ मेरी, मेरा अभिमान है तू – मेरी रुह का आकर है तू

"नाज़-नज़र और रक्षा-कवच, तेरी तरह बस बन जाती माँ" - एक बेटी द्वारा अपनी माँ को समर्पित, जिसकी समता वह ख़ुद माँ बनने के बाद ही समझ पाई।   

“नाज़-नज़र और रक्षा-कवच, तेरी तरह बस बन जाती माँ” – एक बेटी द्वारा अपनी माँ को समर्पित, जिसकी समता वह ख़ुद माँ बनने के बाद ही समझ पाई।   

माँ मेरी, मेरा अभिमान है तू,
मेरे स्वाभिमान का आधार है तू;
तेरे अंश का विस्तार हूँ मैं,
मेरी रुह का आकर है तू।

जब दंभ हुआ युवा हूँ मैं,
और सोच लिया पर्याप्त भी हूँ;
क्यों बैठूँ बरगद की छाँव में,
अब स्वयं कैलाश विश्वास हूँ।

तेरी थपकी की ममता से,
अनुरागी ये शोर-दिखावा;
मुझ पर न्योछावर तेरा आंचल,
लगा मुझे वैराग्य-दिखावा।

तेरी सावन की पुरवाई वाणी,
लगी जेठ-मेघ का छलावा;
थक निढाल हुई तेरी अमृत-धारा,
सवाल-ख़्याल सब प्रतीत हुआ बहकावा।

ऐ माँ बता, किया क्या तूने,
बस निशा की निद्रा त्यागी थी;
मुख स्वाद बढ़े, तन स्वस्थ रहे,
यही तो तू जताती थी।

तेरी अनुष्ठान-साधना को मैंने,
मन-ही-मन में तोला था;
अब आ खड़ी तेरे धरातल पर,
जब उसने नन्ही आँखों को खोला था।

नित्य सेवा में भूखी-प्यासी,
फ़िर निशा में निद्रा त्यागी थी;
अपने अंश को पाकर मैं भी,
वात्सल्य-भाव रोक ना पाती थी।
नाज़-नज़र और रक्षा-कवच,
तेरी तरह बस बन जाती माँ।

Never miss real stories from India's women.

Register Now

हिमालय सा आदर्श तेरा,
कैसे समझ ना पाई माँ?
आज जो समझी तेरी समता,
माँ मैं भी कहलाई माँ।

मूल चित्र: Pixabay

टिप्पणी

About the Author

Shilpee Prasad

A researcher, an advocate of equal rights, homemaker, a mother, blogger and an avid reader. I write to acknowledge my feelings. I am enjoying these roles. read more...

16 Posts | 27,369 Views
All Categories