ख्वाबों के सिमटते रंग

Posted: January 11, 2019

तेरे चांद की चांदनी में ऐ आसमान, मेरी जिल्द की परतें अब सुलगती हैं – चांदनी हो या चाहत, वक़्त के साथ सबके मायने ज़िन्दगी अनुसार बदल जाते हैं।

ख्वाबों की जिस गली से वास्ता था मेरा,
वहां इन दिनों एक रेत उड़ा करती है।

तेरे चांद की चांदनी में ऐ आसमान,
मेरी जिल्द की परतें अब सुलगती हैं।

कह के निकल गए वो कितने सुकून से,
कमजोरियों के अक्स अब उभरते हैं।

उनकी कोशिशों का है कितना अहसान,
इस दरख़्त पे कांटे तो उगा करते है।

हाथों को सजा लाए आरज़ू के खून से,
फिर मांग संवारने की बात करते हैं।

कतरा जिसने कर दिया हो कतरा कुर्बान,
उसे हाशिए पे लाके अब छिटकते हैं।

उनकी चाहत की साजिश से नवाकिफ,
साथ चल रही थी, चला करती हूं।

मुझे वास्ता तुम्हारा ये दास्तान,
जिस रंग से लिख रही थी अब सिमटते हैं।

मूल चित्र: Pexels

Working mom and writer by passion

और जाने

Salman Khan is all set to romance Alia Bhatt!

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

NOVEMBER's Best New Books by Women Authors!

[amazon_link asins='0241334144,935302384X,9382381708,0143446886,9385854127,9385932438,0143442112,9352779452,9353023947,9351365956' template='WW-ProductCarousel' store='woswe-21' marketplace='IN' link_id='9d61a3a6-e728-11e8-b8e6-c1a204e95bb2']

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?