ज़िंदगी

Posted: January 24, 2019

 

ज़िन्दगी के भिन्न -भिन्न पहलूओं का बेहद उम्दा वर्णन करती कविता। 

बहती नदी की धार सी
कल-कल करती ज़िंदगी
इस छोर से उस छोर तक
निरंतर बहती जा रही।

अलसाई हुई शाम सी
करवट बदलती ज़िंदगी
सुबह के इंतजार में
निशा गले लगा रही।

पत्तों पर ओस की बूंद सी
गिरती संभलती ज़िंदगी
ऊषा की पहली किरण को
खुद में समेटे जा रही।

बदलते हुए मौसम सी
पल-पल बदलती ज़िंदगी
सावन में आई बहार को
पतझड़ भी है समझा रही।

वर्षा की पहली बौछार सी
सोंधी महक सी ज़िंदगी
जीवन की सूखी धरा पर
नई कोपलें उगा रही।

सूरज के प्रतिबिंब सी
लहरों पर दमकती ज़िंदगी
नव वर्ष में नई रोशनी
नई आशाएं जगा रही।

मूल चित्र : pexels 

Salman Khan is all set to romance Alia Bhatt!

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

NOVEMBER's Best New Books by Women Authors!

[amazon_link asins='0241334144,935302384X,9382381708,0143446886,9385854127,9385932438,0143442112,9352779452,9353023947,9351365956' template='WW-ProductCarousel' store='woswe-21' marketplace='IN' link_id='9d61a3a6-e728-11e8-b8e6-c1a204e95bb2']

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?