कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

ज़िंदगी

Posted: जनवरी 24, 2019

 

ज़िन्दगी के भिन्न -भिन्न पहलूओं का बेहद उम्दा वर्णन करती कविता। 

बहती नदी की धार सी
कल-कल करती ज़िंदगी
इस छोर से उस छोर तक
निरंतर बहती जा रही।

अलसाई हुई शाम सी
करवट बदलती ज़िंदगी
सुबह के इंतजार में
निशा गले लगा रही।

पत्तों पर ओस की बूंद सी
गिरती संभलती ज़िंदगी
ऊषा की पहली किरण को
खुद में समेटे जा रही।

बदलते हुए मौसम सी
पल-पल बदलती ज़िंदगी
सावन में आई बहार को
पतझड़ भी है समझा रही।

वर्षा की पहली बौछार सी
सोंधी महक सी ज़िंदगी
जीवन की सूखी धरा पर
नई कोपलें उगा रही।

सूरज के प्रतिबिंब सी
लहरों पर दमकती ज़िंदगी
नव वर्ष में नई रोशनी
नई आशाएं जगा रही।

मूल चित्र : pexels 

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020