कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

घर भी कुछ कहता है

Posted: जनवरी 24, 2019

हर  घर कुछ कहता है’ – घर का मानवीकरण कर एक  संदेश देती कविता। 

 

कहाँ जाते हो तुम

मुझे छोड़ रोज़ ?

दौड़-धूप करते हो

क्यों तुम रोज़ ?

 

शायद पता है मुझे

क्यों जाते हो तुम!

शायद पता है मुझे

क्या पाते हो तुम!

 

अपने लिए तो

मुझे बनाते हो।

तुम मेरे लिए

ही तो जाते हो।

 

मेरे लिए तो

सब सहते हो।

मेरे लिए ही

तो तड़पते हो।

 

पर तुम याद

रखना बस इतना।

जीवन क्षणिक

सत्य बस इतना।

 

भीष्म पितामह

ही हो यह जानो तुम।

सब कुछ बस

अपना ना मानो तुम।

 

कर्तव्यनिष्ठ बन

सत्यनिष्ठ बन

अरे! करो तुम सब।

मगर सहो न तुम सब।

 

बदन को भी दो तुम तरावट।

दूर किया करो तुम थकावट।

 

नहीं तो आकाशगंगा में

जब तुम उड़ोगे।

तो मुझे तुम बस

मुझे ही ढूंढा करोगे।

(घर=मानव तन)

 

मूल चित्र : pexels 

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020