माँ..

Posted: November 29, 2018

माँ के निश्छल प्रेम को दर्शाती एक कविता 

 

वो हाथ पकड़ चलना सिखाए भी,

राह भटकने से बचाये भी|

ग़ुस्सा कर ग़लती का एहसास कराए भी,

उदास हो जाऊँ तो लाड़ लड़ायें भी।।

 

हम आए तो वो माँ कहलायी,

उससे ना कभी हो पाऊँ मैं परायी।।

जिससे है हर पल हमारी चिंता सताई,

वो साथ है तो मैं जीत जाऊँ हर लड़ाई|

जग रूठ जाये चिंता नहीं,

माँ रूठ जाये तो उससे बड़ी निंदा नहीं।।

 

सब जानते हैं इनके कितने किरदार हैं,

गिनने  लगो तो ख़ूबियों भरपार हैं|

ये बहन भी हैं भाभी भी, जेठानी भी और सास भी|

ये ग्रहणी भी है और कामकाजी भी,

तो अपने बच्चों के लिए महत्वकांशी भी।।

 

सदा तुम्हें हमारे लिए ही जीते देखा है,

एक छोटी सी मेरी खरोंच पर भी घबराते देखा है|

तुम हर दिन कुछ नया सिखाती हो,

विचलित हो जो मन तो साहस बढ़ाती हो।।

 

एक वो भी हैं शक्ति जो शेर पर सवार हैं,

जिनकी कृपा से ये लिखना साकार है,

और एक है वो हस्ती जो माँ रूप साक्षात् है

उन्ही के क़दमों में मेरे सफल जीवन का आकार है।।

 

मूल चित्र : pixabay

A Creative Writer by choice and an IT person by profession, Shruti likes to make

और जानें

Salman Khan is all set to romance Alia Bhatt!

Comments

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

NOVEMBER's Best New Books by Women Authors!

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

A Chance To Celebrate