कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

लेखिका रोंडा बर्न के साथ यूँ शुरू हुआ मेरी ख्वाइशों का सफर

Posted: अगस्त 23, 2018

लेखिका रोंडा बर्न मेरी गुरु हैं, इन्होंने मुझे और मेरे सपनों को फिर से पहचान दी, मुझे प्रेरणा दी और मेरे जीवन में परिवर्तन का नया आग़ाज़ किया। 

ये मेरी कहानी है। मैं एक साधारण सी लड़की हूँ जिसके बहुत सारे सपने थे, जो ज़िन्दगी में कुछ कर दिखाने का साहस रखती थी। पर वो कहते हैं न, इस जहान में आसानी से सब कुछ नहीं मिलता। लेकिन लेखिका रोंडा बर्न और उनकी लिखी एक किताब ने मेरे सपनों को एक नई उड़ान दी और मुझे सकारात्मकता और कृतज्ञता से जीने का मंत्र दिया। ये कहानी है हर उस औरत की जो अपनी पारिवारिक  ज़िम्मेदारियाँ को निभाते हुए अपनी एक नई पहचान बनाना चाहती है। चलते हैं मेरे सफर की ओर…..

“हजारों ख्वाहिशें ऐसी के हर ख्वाहिश पे दम निकले, बहुत निकले मेरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले”- मिर्ज़ा गालिब

बहुत छोटी उम्र में ही मेरी शादी तय हो गई थी। अभी तो ज़िदगी से ठीक से वाकिफ़ भी नहीं हुई थी। अचानक इतने बड़े फैसले से ऐसा लगा जैसे, सारे सपनों पर विधाता और माता-पिता ने रोक लगा दी हो। अक्सर माँ कहा करती थी ज़िन्दगी में जो होता है अच्छे के लिए होता है, पर मेरे सपनों का क्या?

आज भी याद है माँ ने कहा था, “अगर सपने हैं, साहस है, तो देखना तुम शादी के बाद भी अपनी मंजिल को हासिल करोगी।”
शादी तो हो गई पर ज़िन्दगी जैसे कहीं थम सी गई, मां की बातें, नसीहतें और मेरे सपने जैसे किसी ने ताले में  बंद कर दिये और चाबी किसी समुद्र में फेंक दी हो। परिवार और बच्चों की जिम्मेदारी मे जैसे मैं अपने आप को भूल गई थी।

पर गाने सुनने का शौक मुझे अभी भी था। मेरा रेडियो और मेरा काम जैसे साथ में चलता था। फिर एक दिन मैंने एक रेडियो जॉकी के शो में एक किताब का नाम सुना – द सीक्रेट। किताब और उसकी लेखिका रोंडा बर्न की प्रशंसा रोज़ रेडियो पर होने लगी जिससे मेरी उत्सुकता बढ़ने लगी और मैंने वह किताब खरीद ली।

कुछ अलग ही जादुई शब्दों का भंडार था उस किताब में। लेकिन उस किताब से ज़्यादा, उसकी लेखिका के प्रति मेरा रुझान जैसे दिन-ब-दिन बढ़ता ही जा रहा था – कैसे उसने अपने जीवन में वो कामयाबी हासिल की जबकि वो पूरी तरह से हार चुकी थीं। और यहां से मेरी ज़िन्दगी का एक नया अध्याय शुरू हो गया।

रोंडा बर्न एक लेखिका के रूप में मेरी गुरु हैं, जिन्होंने मुझे, मेरी माँ की बातों और मेरे सपनों को फिर से पहचान दी। उनका पहला मंत्र है कि आप अपने जीवन में वो सब कुछ हासिल कर सकते हो जो आप दिल से और पूरी शिद्दत से चाहते हो। जो भी आपके सपने हैं उन्हें पूरा होते हुए महसूस करो और पूरा विश्वास रखो कि एक दिन आप अपने लक्ष्य को ज़रूर हासिल करोगे। हर हाल में कृतज्ञ रहना सीखो और शिकायतें कम करो, तब ही आप अपने जीवन में आगे बढ़ोगे और अपने सपनों को पूरा कर पाओगे।

इससे मेरी ज़िन्दगी में एक बहुत बड़े बदलाव की शुरुआत हो चुकी थी। शिकायतों का तर्ज़ कम कर दिया, हर हाल में कृतज्ञ रहने लगी और फिर से अपने उधड़े हुए सपनों को रफू करना शुरू किया। सपना मेरा इतना सा ही था की लोग मुझे मेरे नाम से और मेरे काम से जाने, न कि किसी की बेटी या बीवी के नाम से। मैं अपने पैरों पर खड़ा होना चाहती थी।

रोंडा बर्न एक प्रेरक और प्रभावी लेखिका हैं जिनके जादुई शब्दों ने मेरी ज़िन्दगी जीने का तरीका बदल दिया, मुझे फिर से सपने देखना सिखाया और उन्हें सच करने की सही दिशा दी, कृतज्ञ रहना सिखाया और ज़िन्दगी से शिकायतों के ताने-बाने पर रोक लगाना सिखाया।
रोंडा बर्न की किताब और उनकी सीख ने मेरे जीवन को नया मोड़ दिया।

अपने सपनों की तरफ बढ़ते हुए मैंने कविताएँ लिखनी शुरू की और अपनी नई पहचान बनाने की तरफ अपना कदम उठाया।
एक लेखिका ने मुझे प्रेरणा दी और मेरे जीवन में परिवर्तन का नया आग़ाज़  किया।
और मेरा सफ़र अभी जारी है………..

आप रोंडा बर्न की सबसे लोकप्रिय किताबें हिंदी में Amazon पर पा सकते हैं: The Secret और Hero

मूल चित्र: The Secret TV

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020