कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

इश्तियाक़

Posted: अगस्त 9, 2018

कभी-कभी कुछ इत्तेफ़ाक़ रूखी सी चल रही ज़िन्दगी में मीठी सी इक हलचल मचा कर जीने के मायने ही बदल देते हैं। और इस ज़िन्दगी का क्या-इन्हीं छोटे-छोटे लम्हों से इसे संवार लेना चाहिए। कौन जाने, कल हो ना हो!

और….
तुम्हारा यूं अचानक,
सामने आ जाना….
इस क़ायनात में,
इक हरक़त कर गया;
पूरा वज़ूद रौशन हो,
ग़ुलाब सा महकने लगा!
महज़ इक तस्वीर से,
इतनी मीठी बे-तरतीबी?
अब बस इश्तियाक़ है,
रुबरू होने का….

मूल चित्र: Pexels

Designer, Counsellor, and Therapeutic Arts Specialist. Advisor on board for Ideaworx.

और जाने

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020