इश्तियाक़

Posted: August 9, 2018

कभी-कभी कुछ इत्तेफ़ाक़ रूखी सी चल रही ज़िन्दगी में मीठी सी इक हलचल मचा कर जीने के मायने ही बदल देते हैं। और इस ज़िन्दगी का क्या-इन्हीं छोटे-छोटे लम्हों से इसे संवार लेना चाहिए। कौन जाने, कल हो ना हो!

और….
तुम्हारा यूं अचानक,
सामने आ जाना….
इस क़ायनात में,
इक हरक़त कर गया;
पूरा वज़ूद रौशन हो,
ग़ुलाब सा महकने लगा!
महज़ इक तस्वीर से,
इतनी मीठी बे-तरतीबी?
अब बस इश्तियाक़ है,
रुबरू होने का….

मूल चित्र: Pexels

Designer, Counsellor, and Therapeutic Arts Specialist. Advisor on board for Ideaworkx.

और जाने

Salman Khan is all set to romance Alia Bhatt!

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

NOVEMBER's Best New Books by Women Authors!

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?