कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

इंसान हूँ पहले, चाहिए मुझे इंसान के हक़

Posted: July 30, 2018

ये समाज जहां एक ओर औरत को देवी मान कर पूजता है, वहीं दूसरी ओर, यही समाज उसी औरत की दुर्दशा का ज़िम्मेदार भी है। ऊपर से, दुर्भाग्य यह है कि इन मसलों को सिर्फ एक राजनैतिक मुद्दा बना कर शोर मचाया जा रहा है। 

मुझे नहीं चाहिए-
तुम्हारी सहानुभूति,
तुम्हारा तरस,
तुम्हारे वादे,
तुम्हारे भाषण।

मुझे नहीं चाहिए-
तुम्हारी बेटी बनना,
तुम्हारे देश का एक आंकड़ा बनना,
तुम्हारे बनाये हुए रिश्तों में,
अपनी इज़्ज़त ढूढ़ना।

मुझे नहीं चाहिए-
तुम्हारी राजनीति,
तुम्हारे खोखले शब्द,
तुम्हारी आँखों के पीछे छुपे पिशाच,
तुम्हारी झूठी सोच।

मुझे चाहिए-
मेरे इंसान होने के हक़,
मेरी आज़ादी,
चलने की, दौड़ने की, सोचने की आज़ादी,
जिस वक़्त, जिस तरह, जहाँ चले जाने की आज़ादी,
जीने की आज़ादी।

नहीं हूँ तुम्हारे देश की बेटी, माँ, बहन-
हूँ उस सब से कुछ ज़्यादा,
खुद अपने आप में पूरी हूँ मैं,
पहचान लो मुझे,
इंसान हूँ पहले।

Against the politicisation of rape in our country.

मूल चित्र: Unsplash

Saumya Baijal, is a writer in both English and Hindi. Her stories, poems and articles

और जाने

महिलाओं का मानसिक स्वास्थ्य - महत्त्वपूर्ण जानकारी आपके लिए

टिप्पणी

2 Comments


अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020