क्यों मुस्कुरा रहे हो ऐ दोस्त? मैं, रुकने वाली नहीं

Posted: March 13, 2019

“आज एक अरमान दफ़न हुआ है, कल और ख़्वाब शहीद होंगे,” पर मैं, रुकने वाली नहीं तब तक, जब तकअपने ख़्वाब को हक़ीक़त ना बना लूँ।

क्यों मुस्कुरा रहे हो ऐ दोस्त,
मेरी नाकामी पर,
मेरे ख़्वाब आज भी किसी के मोहताज नहीं,
परवाज़ लेने के लिए।

आज एक अरमान दफ़न हुआ है,
कल और ख़्वाब शहीद होंगे,
मेरी आरज़ूओं की कब्र पर,
कई लोग सवार होंगे।

पर एक दिन वह भी आएगा,
जब मेरा धुँधला ख़्वाब, हक़ीक़त की रौशनी पायेगा,
रंगीन सियाही से चमकेगा हर तिनका उसका,
तुम्हारी इसी हँसी का अक्स, तुम्हें नज़र आएगा।

पसंद आया यह लेख?

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स में पाइये! बस इस फॉर्म में अपना ईमेल एड्रेस भरें!
Video Of The Week

VIDEO OF THE WEEK

Comments

Share your thoughts! [Be civil. No personal attacks. Longer comment policy in our footer!]

NOVEMBER's Best New Books by Women Authors!

Get our weekly mailer and never miss out on the best reads by and about women!

#MyEverydaySuperStar