माँ..

Posted: November 29, 2018

माँ के निश्छल प्रेम को दर्शाती एक कविता 

 

वो हाथ पकड़ चलना सिखाए भी,

राह भटकने से बचाये भी|

ग़ुस्सा कर ग़लती का एहसास कराए भी,

उदास हो जाऊँ तो लाड़ लड़ायें भी।।

 

हम आए तो वो माँ कहलायी,

उससे ना कभी हो पाऊँ मैं परायी।।

जिससे है हर पल हमारी चिंता सताई,

वो साथ है तो मैं जीत जाऊँ हर लड़ाई|

जग रूठ जाये चिंता नहीं,

माँ रूठ जाये तो उससे बड़ी निंदा नहीं।।

 

सब जानते हैं इनके कितने किरदार हैं,

गिनने  लगो तो ख़ूबियों भरपार हैं|

ये बहन भी हैं भाभी भी, जेठानी भी और सास भी|

ये ग्रहणी भी है और कामकाजी भी,

तो अपने बच्चों के लिए महत्वकांशी भी।।

 

सदा तुम्हें हमारे लिए ही जीते देखा है,

एक छोटी सी मेरी खरोंच पर भी घबराते देखा है|

तुम हर दिन कुछ नया सिखाती हो,

विचलित हो जो मन तो साहस बढ़ाती हो।।

 

एक वो भी हैं शक्ति जो शेर पर सवार हैं,

जिनकी कृपा से ये लिखना साकार है,

और एक है वो हस्ती जो माँ रूप साक्षात् है

उन्ही के क़दमों में मेरे सफल जीवन का आकार है।।

 

मूल चित्र : pixabay

पसंद आया यह लेख?

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

A Creative Writer by choice and an IT person by profession, Shruti likes to make

Learn More

VIDEO OF THE WEEK

Comments

Share your thoughts! [Be civil. No personal attacks. Longer comment policy in our footer!]

NOVEMBER's Best New Books by Women Authors!

Stay updated with our Weekly Newsletter or Daily Summary - or both!

TRUE BEAUTY