इश्तियाक़

Posted: August 9, 2018

कभी-कभी कुछ इत्तेफ़ाक़ रूखी सी चल रही ज़िन्दगी में मीठी सी इक हलचल मचा कर जीने के मायने ही बदल देते हैं। और इस ज़िन्दगी का क्या-इन्हीं छोटे-छोटे लम्हों से इसे संवार लेना चाहिए। कौन जाने, कल हो ना हो!

और….
तुम्हारा यूं अचानक,
सामने आ जाना….
इस क़ायनात में,
इक हरक़त कर गया;
पूरा वज़ूद रौशन हो,
ग़ुलाब सा महकने लगा!
महज़ इक तस्वीर से,
इतनी मीठी बे-तरतीबी?
अब बस इश्तियाक़ है,
रुबरू होने का….

मूल चित्र: Pexels

पसंद आया यह लेख?

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स में पाइये! बस इस फॉर्म में अपना ईमेल एड्रेस भरें!

Designer, counsellor, and Art Therapy practitioner. Advisor on board for Ideaworkx.

Learn More

VIDEO OF THE WEEK

Comments

Share your thoughts! [Be civil. No personal attacks. Longer comment policy in our footer!]

NEW in September! Best New Books by Women Authors

Stay updated with our Weekly Newsletter or Daily Summary - or both!

Orange Flower 2018