इंसान हूँ पहले, चाहिए मुझे इंसान के हक़

Posted: July 30, 2018

ये समाज जहां एक ओर औरत को देवी मान कर पूजता है, वहीं दूसरी ओर, यही समाज उसी औरत की दुर्दशा का ज़िम्मेदार भी है। ऊपर से, दुर्भाग्य यह है कि इन मसलों को सिर्फ एक राजनैतिक मुद्दा बना कर शोर मचाया जा रहा है। 

मुझे नहीं चाहिए-
तुम्हारी सहानुभूति,
तुम्हारा तरस,
तुम्हारे वादे,
तुम्हारे भाषण।

मुझे नहीं चाहिए-
तुम्हारी बेटी बनना,
तुम्हारे देश का एक आंकड़ा बनना,
तुम्हारे बनाये हुए रिश्तों में,
अपनी इज़्ज़त ढूढ़ना।

मुझे नहीं चाहिए-
तुम्हारी राजनीति,
तुम्हारे खोखले शब्द,
तुम्हारी आँखों के पीछे छुपे पिशाच,
तुम्हारी झूठी सोच।

मुझे चाहिए-
मेरे इंसान होने के हक़,
मेरी आज़ादी,
चलने की, दौड़ने की, सोचने की आज़ादी,
जिस वक़्त, जिस तरह, जहाँ चले जाने की आज़ादी,
जीने की आज़ादी।

नहीं हूँ तुम्हारे देश की बेटी, माँ, बहन-
हूँ उस सब से कुछ ज़्यादा,
खुद अपने आप में पूरी हूँ मैं,
पहचान लो मुझे,
इंसान हूँ पहले।

Against the politicisation of rape in our country.

मूल चित्र: Unsplash

पसंद आया यह लेख?

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स में पाइये! बस इस फॉर्म में अपना ईमेल एड्रेस भरें!

Saumya Baijal, is a writer in both English and Hindi. Her stories, poems and articles

Learn More

VIDEO OF THE WEEK

Comments

1 Comment


  1. i can connect to you by your words..very well written.

Share your thoughts! [Be civil. No personal attacks. Longer comment policy in our footer!]

Feminist Book Picks

Stay updated with our Weekly Newsletter or Daily Summary - or both!

An Event For Ambitious Women!